पूरे देश में रुड़की से हो रही नकली दवाईयों की सप्लाई, टीम ने दबिश करके ढाई करोड़ रूपये की नकली दवाईया पकड़ी |

By | December 5, 2020

पूरे देश में रुड़की से हो रही नकली दवाईयों की सप्लाई:- एक तो जहां हमारे देश में लोग ऐसे ही बीमारियों की चपेट में आने से परेशान हो रखे है वहीं कुछ लोग हालातो में भी लोगो को नकली दवाईयों का शिकार बना रहे है अभी हाल ही में रूडकी में प्रशासन व औषधि नियंत्रण विभाग ने अपनी सयुंक्त कार्यवाही में ढाई करोड़ रूपये की नकली दवाईयों का स्टॉक बरामद किया है

Fake antibiotic medicine

Fake antibiotic medicine

इस छापेमारी में डिपार्टमेंट ने दवाईयों के साथ साथ छ लोगो को कस्टडी में लिया है और दवाईयों के कागजात की छानबीन जारी है | इस खबर का पता लगते ही डिपार्टमेंट ने दवाईया बनाने वाले गोदाम, फैक्ट्री व ऑफिस को सील कर दिया है रेड डालने वाले अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार यहाँ बरामद नकली दवाइयों का स्टॉक पूरे देश में डिस्ट्रीब्यूट किया जा रहा था

इस नकली दवाईयों की छापेमारी को अंजाम देनें के लिए देहरादून से स्पेशल टीम आयी थी जिसने स्थानीय पुलिस दल के साथ मिल कर विभागीय कार्यवाही को अंजाम दिया रेड मारने के लिए टीम जिस गोदाम में गयी थी वहां तीन लोग बैठे दवाईयों की पैकिंग कर रहे थे और वो लोग जिस दवाई की पैकिंग कर रहे थे वह दवाई फैक्ट्री विभाग के अभिलेखों के अन्दर कही भी रिकॉर्ड में नहीं थी |

टीम ने नकली दवाईयों के मास्टरमाइंड को भी हिरासत में लिया

गोदाम के अन्दर अधिकारियों की टीम द्वारा लगभग एक करोड़ की नकली दवाइयां बरामद की गयी और जब टीम को पता चला कि इस गोदाम के अन्दर ही एक और ऑफिस भी है तो वहां से भी ड्रग इंस्पेक्टर ने कुछ दवाईयों के सैंपल बरामद कर लिए और इस ऑफिस में एक मास्टरमाइंड भी बैठा था

जो इस ओफिस और गोदाम के कारोबार को हैंडल करने वाला फ्रंट फेस बताया जा रहा है टीम ने इस मास्टरमाइंड को भी हिरासत में लिया है और पूछताछ में इसने बताया कि उसने आदर्श नगर में ही एक फ्लैट किराये पर लिया है जहाँ दबिश करने पर विभाग को कुछ दवाईयों के डॉक्यूमेंट और एक लैपटॉप मिला , टीम इस लैपटॉप से साक्ष्य जुटाने की पूरी कोशिश कर रही है जिससे इस अवैध दवाईयो के व्यापार पर नियंत्रण किया जा सके और नकली एंटीबायोटिक दवाईयों के बनाने पर रोक लगे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *